लखनऊ। न्यायाधीश बीएच लोया मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को कहा कि इस मामले में कांग्रेस की बदनीयती एक बार फिर उजागर हो गई है और इसके लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए।
योगी ने कहा कि कांग्रेस ने देश में ऐसा माहौल बनाने की कोशिश की है कि जिससे सरकार के प्रति लोगों के दिलों में नकारात्मक भावनाएं पैदा हों। उच्चतम न्यायालय ने भ्रम को साफ कर दिया है। यह कांग्रेस के एक षड्यंत्र का खुलासा है। गांधी को इसके लिए देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए।
उच्चतम न्यायालय ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के न्यायाधीश बीएच लोया मौत मामले की स्वतंत्र जांच कराने संबंधी सभी याचिकाएं गुरुवार को खारिज कर दीं। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ की पीठ ने याचिकाएं यह कहते हुए खारिज कर दीं कि लोया मौत मामले की स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली इन याचिकाओं का कोई आधार नहीं है।
न्यायमूर्ति चन्द्रचूड़ ने फैसला सुनाते हुए कहा कि बीएच लोया की मौत के मामले में संदेह का कोई आधार नजर नहीं आता इसलिए मामले की स्वतंत्र जांच के आदेश का कोई आधार नहीं दिखता। न्यायालय ने गत 16 मार्च को इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था।
सोहराबुद्दीन शेख के कथित फर्जी मुठभेड़ कांड की सुनवाई कर रहे सीबीआई के विशेष न्यायाधीश बीएच लोया की मृत्यु नागपुर में 1 दिसंबर 2014 को दिल का दौरा पड़ने से हो गई थी। उनकी मृत्यु की किसी स्वतंत्र जांच एजेंसी से जांच कराए जाने की मांग याचिकाकर्ताओं ने की थी।