लखनऊ विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत (21) की रविवार को दारुलशफा बी ब्लॉक स्थित विधायक निवास में गला घोंटकर हत्या कर दी गई। उसकी मां मीरा ने ही हत्या करना कबूल किया है। पुलिस पूछताछ में उन्होंने यह बात स्वीकार की है।
अभिजीत यादव की मां मीरा ने पुलिस हिरासत में कबूला है कि उसने ही अपने बेटे की हत्या गला दबाकर की। मीरा ने बताया कि अभिजीत जब नशे में था तो वह उनसे बदतमीजी कर रहा था और उसने उन्हें मारने की भी कोशिश की।

क्या था पूरा मामला : एएसपी पूर्वी सर्वेश कुमार मिश्र के मुताबिक, मूल रूप से एटा निवासी विधान परिषद सभापति रमेश यादव का दारुलशफा न्यू बी ब्लॉक में आवास है। यहां उनकी दूसरी पत्नी मीरा यादव अपने बेटे अभिजीत और अभिषेक के साथ रहती हैं। अभिजीत बीएससी प्रथम वर्ष का छात्र था। रविवार तड़के उसकी मौत की खबर फैली। परिजन दोपहर में शव का अंतिम संस्कार करने जा रहे थे। इसी बीच पुलिस ने बीच रास्ते में उन्हें रोक लिया और छानबीन शुरू कर दी।

पोस्टमार्टम में हुआ खुलासा : पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला घोंटकर हत्या की पुष्टि हुई थी। सिर पर चोट के निशान मिले थे। कुल पांच डॉक्टर्स के पैनल ने शव का पोस्टमार्टम किया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि अभिजीत की गला घोंटकर हत्या की गई थी और सिर पर चोट भी थी। इसी आधार पर पुलिस ने अभिजीत की मां मीरा और भाई अभिषेक से पूछताछ शुरू कर दी।

पूछताछ में कबूला गुनाह : करीब 9 घंटे तक चली पुलिस पूछताछ में मीरा ने हत्या की बात स्वीकार कर ली। एएसपी पूर्वी के मुताबिक, मीरा ने बताया कि अभिजीत शराब का लती था। घर पर वह गाली-गलौज और मारपीट भी करता था। घटना के समय भी दोनों में कहासुनी हुई थी। इसके बाद मीरा ने उसे धक्का दे दिया तो उसका सिर दीवार से टकरा गया और वह गिर गया। इसके बाद मीरा ने दुपट्टे से गला घोंट दिया। गला दबाने के बाद बने निशान को मिटाने के लिए मरहम लगाया गया। सूत्रों के अनुसार, वारदात के समय अभिजीत नशे में था।