उन्नाव की धरती कांप उठी बेटी के बलात्कार से ।
योगी साधू यह पूछ रहा अब सत्ता के गद्दार से ।।
कहाँ गया वो परिवर्तन जो रामराज्य का दायक था ।
वह बलात्कार करने वाला बीजेपी का विधायक था ।।
जिसके वोट से कुर्सी यह विधायक वाली पाई है ।
बलात्कार कर उसका तुमको किंचित दया न आई है ।।
क्यों करते थे बातें ऐसी अमल ना जिन पर कर पाए ।
बलात्कारी क्या जीजा है जो जेल में न तुम भर पाए ।।
अच्छे दिन वालों ने देखो कैसा अच्छा कर डाला ।
न्याय मांगने गया जो पीड़ित उसको जेल में भर डाला ।
लिया पक्ष विधायक का और कर्म घिनौना कर डाला ।
कैसा रामराज्य जिसने सिन्दूर मांग का हर डाला ।।
बड़े -बड़े जुमलों के संग ये करते मन की बातें है ।
पिता खो चुकी बेटी की पूछो क्या कटती रातें हैं ।।
चार-चार बेटी के सर से पिता का साया चला गया ।
अहंकारी सत्ता में देखो न्याय आज है छला गया ।।
न्याय सही करते योगी तो वोट बैंक भी बच जाते ।
एक विधायक जेल भेजते पांच मंत्री बढ़ जाते ।।
अब फांसी दो हर दुराचारी को मंत्री चाहे विधायक हो ।
तभी कहेगी यह यूपी योगी तुम सच्चे नायक हो ।।
अगर न्याय न मिला इन्हें तो ये तुमको बतला देगी ।
लोकतंत्र में यह जनता औकात तुम्हे दिखला देगी ।।
अभी समय है भूल सुधारो टालो बाइस की हार को ।
विधायक को फाँसी दो और न्याय दो उस परिवार को ।।

ओजकवि
योगी साधू लखनऊ
8604897466