जम्‍मू। श्रीनगर के करन नगर क्षेत्र में सुरक्षाबलों का हाथ 31 घंटे बाद बड़ी कामयाबी लगी है। सेना ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया है। फिलहाल सेना का तलाशी अभियान जारी है। इस बीच जम्मू में सेना के एक शिविर पर संदिग्ध आतंकवादी हमले को विफल किए जाने के बाद सुरक्षा बलों ने आज जम्मू में एक वृहद तलाशी अभियान शुरू किया।

केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) बटालियन मुख्यालय के समीप मकान में लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी छिपे हुए थे। सुरक्षा बलों ने आज सुबह फिर से उनके खिलाफ अभियान शुरू किया था। उल्लेखनीय है कि सीआरपीएफ शिविर पर सोमवार सुबह आतंकवादियों के एक फिदायीन हमले को सतर्क संतरी ने विफल कर दिया और इसके बाद हुई मुठभेड में एक सीआरपीएफ जवान मुजाहिद खान शहीद हो गया तथा एक पुलिस का जवान गंभीर रूप से घायल हो गया था।
आधिकारिक सूत्रों ने आज सुबह बताया कि सूरज की पहली किरण के साथ के साथ ही सुरक्षाबलों ने मकान में छिपे आतंकवादियों के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया। हालांकि आतंकवादियों ने फिर से सुरक्षा बलों पर अंधाधुंध गोलीबारी की। पूरे इलाके की घेराबंदी की गई है ताकि आतंकवादियों के भागने के प्रयासों को नाकाम किया जा सके। रात में रूक-रूक कर गोली चलने की आवाज सुनी गई।
एक स्थानीय निवासी ने कहा कि गोलीबारी सुबह सवा छह बजे शुरू हुई। उन्होंने कहा कि मुठभेड़ स्थल से तेज विस्फोट की आवाज सुनी गई।
सीआरपीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दो आतंकवादियों के एक समूह ने सीआरपीएफ बटालियन मुख्यालय में प्रवेश करने की कोशिश की लेकिन मुख्य द्वार पर तैनात संतरी ने उसके कोशिशों को विफल कर दिया हालांकि इस बीच आतंकवादी भागकर समीप के मकान में छिप गए। अतिरिक्त सुरक्षा बल तथा स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप(एसओजी) के पहुंचने के तुरंत बाद इलाके में घेराबंदी की गई थी।
दूसरी ओर जम्मू में सेना के एक शिविर पर संदिग्ध आतंकवादी हमले को विफल किए जाने के बाद सुरक्षा बलों ने आज जम्मू में एक वृहद तलाशी अभियान शुरू किया। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। इससे तीन दिन पहले जैश-ए-मोहम्मद संगठन द्वारा सुंजवां सैन्य स्टेशन पर किए गए घातक हमले में 11 लोगों की मौत हो गई थी।
जम्मू के सैन्य प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया, ‘जम्‍मू शहर के दोमाना इलाके में एक हमले (शिविर पर) को नाकाम कर दिया गया और आतंकवादी फरार हो गए।’
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि माना जा रहा है कि मोटरसाइकिल पर सवार दो आतंकवादी सुबह साढे़ चार बजे जम्मू-अखनूर मार्ग पर दोमाना कैंप के मुख्य द्वार तक पहुंच गए थे। सुरक्षा अधिकारियों ने उन्हें रूकने का संकेत दिया तो उन्होंने संतरी चौकी पर गोली चला दी जिसके बाद सुरक्षा अधिकारियों ने जवाबी कार्रवाई की। जांच शुरू कर दी गई है और फरार आतंकवादियों का पता लगाने के लिए एक तलाशी अभियान जारी है। इलाके में अलर्ट जारी कर दिया गया है।
शनिवार को जम्मू के सुंजवां इलाके में पाकिस्तानी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के हथियारबंद आतंकियो ने सेना के शिविर पर हमला कर दिया था जिसके बाद दोनों और से गोलीबारी शुरू हो गई थी। इस घटना में 7 सैनिक शहीद हो गए थे जबकि एक नागरिक की मौत हो गई थी। सुरक्षा बलों ने सभी आतंकियों को भी मार गिराया था।