फीफा वर्ल्ड कप का 21वां संस्करण 14 जून से 15 जुलाई तक रूस में खेला जाएगा। फीफा वर्ल्ड कप में पहला मुकाबला रशिया और सउदी अरब के बीच खेला जाएगा। वहीं वर्ल्ड कप के आगाज से ठीक पहले ही मैदान पर युवा खिलाड़ियों की तुलना अनुभवी दिग्गजों से होने लगी हैं। इस मामले में इन पांच टीमों के कप्तानों पर तो और भी ज्यादा कड़ी नजर रहेंगी।

साल 2014 कोलंबिया के गोलकीपर फ्रायम मॉन्ड्रैगन सबसे ज्यादा उम्र में फीफा वर्ल्ड कप खेलने वाले खिलाड़ी बने थे। लेकिन इस बार यह कीर्तिमान मिस्र के कप्तान एसाम एल हैदरी अपने नाम कर लेंगे। बता दें कि एसाम 45 साल 150 दिन के साथ इस रिकॉर्ड को अपने नाम करने वाले हैं।

इस बार वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के कप्तान हैरीकेन पर प्रशंसकों की सबसे ज्यादा नजर रहेगी। बता दें कि 24 वर्षीय इस युवा खिलाड़ी के हाथ में इस बार इंग्लैंड टीम की कमान है। टॉटेनम हॉट्सपर के लिए पिछले चार सीजन में 100 से भी ज्यादा गोल करने वाले इस खिलाड़ी पर इंग्लैंड टीम के मैनेजर ने गैरेथ साउथगेट ने भरोसा जताया है।

इसमें कोई दो राय नहीं कि ब्राजील की मौजूदा टीम के सबसे धाकड़ खिलाड़ियों में नेमार का नाम शीर्ष पर है। 26 वर्षीय नेमार को हाल ही में ब्राजील का कप्तान बनाया गया है। यदि मैदान पर इस खिलाड़ी के जादूई कदमों का खेल दिखा ता निश्चित ही ब्राजील छठी बार विश्व विजेता बन सकती है।

पिछले कुछ समय से आइसलैंड की फुटबॉल टीम ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ा नाम किया है। साल 2015 में आइसलैंड ने पहली बार यूरोपियन चैंपियनशिप में क्वालीफाई किया था। इस बार फीफा में भी आइसलैंड ने सभी को चौंकाते हुए पहली बार क्वालीफाई किया है और टीम की कमान एरॉन गुनारसन को सौंपी गई।

साल 2014 में चोट से जूझ रहे रडामेल फालकाओ की किस्मत काफी खराब रही है। पिछले वर्ल्ड कप में इस धुरंधर की टीम क्वार्टर फाइनल में तो पहुंची लेकिन पूरे सीजन में इस खिलाड़ी को बेंच स्ट्रेंथ के साथ बैठकर मैच देखने पड़ा। हालांकि इस बार उन्हें कोलंबिया का कप्तान बनाया गया है।