जोधपुर। सलमान खान की जमानत याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई करते हुए जोधपुर की सेशन कोर्ट ने अपना फैसला शनिवार तक के लिए सुरक्षित रख लिया। सलमान आज की रात जेल में रहेंगे, जमानत पर फैसला शनिवार को सुनाया जाएगा।

अभियोजन पक्ष के वकील महिपाल विश्नोई और सलमान खान के अधिवक्ता हस्ती मल सारस्वत ने यह जानकारी दी। विश्नोई ने बताया कि अदालत ने सलमान खान की जमानत याचिका पर दोनों पक्षों की दलीलें सुनीं। अदालत ने अधीनस्थ अदालत का रिकॉर्ड तलब करने के बाद सुनवाई कल तक के लिए टाल दी।
उन्होंने बताया कि अभियोजन पक्ष ने जमानत याचिका का विरोध करते हुए अधीनस्थ न्यायालय के निर्णय को उचित ठहराया और सजा यथावत रखने की दलील दी।
सारस्वत ने बचाव पक्ष की दलील रखते हुए कहा कि सलमान खान के खिलाफ चश्मदीद साक्ष्य नहीं है लिहाजा अधीनस्थ अदालत के आदेश को रद्द किया जाए।
बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान को जोधपुर की अदालत ने गुरुवार को दो काले हिरणों का शिकार करने के 20 साल पुराने मामले में पांच साल की कैद की सजा सुनाई है। उन्होंने गुरुवार की रात जेल में गुजारी।
जोधपुर जेल में सलमान खान कैदी नंबर-106 हैं और उन्हें बैरक नंबर 2 में रखा गया है। जेल प्रशासन ने कहा कि उनकी सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जा रहा है। फिल्म अभिनेता ने अलग से कोई मांग नहीं की है। जेल में उन्हें दाल रोटी दी गई, जिसे उन्होंने नहीं खाया।
बॉलीवुड के सफल कलाकारों में शुमार सलमान पर वर्तमान में फिल्म निर्माताओं के करीब 600 करोड़ रुपए लगे हुए हैं। विवादास्पद निजी जिंदगी में भाई की पहचान रखने वाले सलमान के साथ अच्छा और बुरा दोनों चरित्र जुड़ा रहा है। सलमान ने 1998 में जोधपुर के नजदीक एक जंगल में विलुप्तप्राय दो काले हिरणों को मार डाला था।
सलमान पहली बार कठिनाइयों में जोधपुर में 1998 में सूरज बड़जात्या की फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान घिरे। अभियोजन ने कहा कि सलमान और फिल्म में उनके साथी कलाकारों तब्बू, सैफ अली खान, नीलम और सोनाली बेंद्रे कथित रूप से एक जिप्सी में बाहर निकले। सलमान गाड़ी चला रहे थे, तभी उन्होंने काले हिरणों का एक झुंड देखा और उनमें से दो को गोली मारकर मार डाला।
चार अन्य को जहां जोधपुर की अदालत ने बरी कर दिया वहीं सलमान को अदालत से जोधपुर केंद्रीय कारागार ले जाया गया।