सलमान खान की रेस 3 इस वर्ष ईद पर रिलीज हुई। पहले वीकेंड में शानदार प्रदर्शन करने के बाद फिल्म धराशायी हो गई। दूसरे सप्ताह में तो फिल्म देखने आए दर्शकों की संख्या उंगली में गिनने लायक थी। फिल्म का लाइफ टाइम कलेक्शन 165 करोड़ रुपये के आसपास सिमट गया। किसी ने भी नहीं सोचा था कि सलमान खान की रेस 3 का यह हश्र होगा।

दरअसल फिल्म ही बहुत बुरी थी। रेमो डिसूजा इतने बड़े बजट और स्टार कास्ट को संभाल नहीं पाए। न फिल्म में ढंग की कहानी थी और न ही रेस सीरिज वाला रोमांच। रेस सीरिज की यह सबसे कमजोर फिल्म थी। सोशल मीडिया पर भी लोगों ने जम कर भड़ास निकाली।
अहम सवाल यह है कि क्या यह फिल्म हिट है? औसत है? या फ्लॉप है?
निर्माता के लिए यह फिल्म ब्लॉकबस्टर है। सलमान खान और रमेश तौरानी ने इस फिल्म का निर्माण किया। सारे अधिकार बेचने के बाद उन्होंने फिल्म से लगभग 100 करोड़ रुपये कमाए।
डिस्ट्रीब्यूटर्स और कई थिएटर मालिकों के लिए यह फिल्म फ्लॉप रही क्योंकि उन्होंने इस फिल्म से नुकसान उठाया। उन्होंने ज्यादा रकम देकर फिल्म अपने थिएटर्स के लिए बुक की और फिल्म के कलेक्शन उतने हुए ही नहीं।
रेस 3 का बिजनेस सलमान खान की प्रतिष्ठा के अनुरूप नहीं रहा। जरूरी नहीं है कि सलमान खान की हर फिल्म 300 करोड़ से ज्यादा का कलेक्शन करे, लेकिन लागत की तुलना के अनुरूप व्यवसाय होना जरूरी है। जब आप भारी रकम लेकर फिल्म बेचते हैं तो जरूरी है कि फिल्म से जुड़े हर शख्स को फायदा मिले।
चूंकि फिल्म से जुड़े ज्यादातर लोगों ने नुकसान उठाया है इसलिए रेस 3 फ्लॉप फिल्म है।