नानजिंग। गत रजत पदक विजेता भारत की पीवी सिंधू ने जापान की नोजोमी ओकुहारा से पिछली चैंपियनशिप के फाइनल की हार का बदला चुकाते हुए शुक्रवार को 21-17, 21-19 की शानदार जीत के साथ विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के महिला एकल के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया।
8वीं सीड ओकूहारा ने सिंधू को पिछली विश्व चैंपियनशिप के खिताबी मुकाबले में 21-19, 20-22, 22-20 से पराजित किया था लेकिन तीसरी सीड सिंधू ने इस बार जापानी खिलाड़ी को 58 मिनट के संघर्ष में पराजित कर दिया। सिंधू का अब सेमीफाइनल में दूसरी सीड जापान की अकाने यामागुची से मुकाबला होगा।
सिंधू का विश्व में 6ठी रैंकिंग की ओकुहारा के खिलाफ 6-6 का करियर रिकॉर्ड हो गया है। सिंधू इस साल थाईलैंड ओपन के फाइनल में ओकूहारा से पराजित हुई थीं लेकिन इस बार उन्होंने ओकूहारारूपी बाधा को पार कर लिया।
सिंधू ने जहां ओकुहारा की बाधा पार कर ली वहीं पूर्व उपविजेता और 10वीं सीड साइना अपनी पुरानी प्रतिद्वंद्वी और 7वीं वरीय स्पेन की कैरोलिना मारिन से पार नहीं पा सकीं। साइना को मारिन ने मात्र 31 मिनट में 21-6, 21-11 से पराजित कर सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण विजेता साइना ने इस मुकाबले में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन किया और पहला गेम 6-21 से गंवाने के बाद मुकाबले में वापसी नहीं कर पाईं।
मिश्रित युगल में सातविकसेराज रैंकीरेड्डी और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी को भी क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। भारतीय जोड़ी को शीर्ष वरीयता प्राप्त चीनी जोड़ी झेंग सीवेई और हुवांग याकियोंग ने मात्र 36 मिनट में 21-17, 21-10 से हराकर अंतिम 4 में जगह बना ली।
पुरुष एकल में बी. साई प्रणीत भी चुनौती नहीं पेश कर सके और 6ठी वरीयता प्राप्त जापान के केंतो मोमोता से हार गए। जापानी खिलाड़ी ने यह मुकाबला 39 मिनट में 21-12, 21-12 से जीतकर सेमीफाइनल में जगह बना ली।