नई दिल्‍ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने परंपरा से हटते हुए गुरुवार को 65वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में से सिर्फ 12 विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए जिसके कारण कई विजेता कलाकार समारोह में सम्मिलित नहीं हुए।

राष्ट्रपति ने यहां विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में दादा साहेब फालके पुरस्कार, राष्ट्रीय एकता के लिए सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म का नरगिस दत्त पुरस्कार, सिनेमा पर सर्वश्रेष्ठ पुस्तक पुरस्कार, गैर फीचर फिल्म श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ निर्देशन पुरस्कार, जसारी भाषा की सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक (पुरुष) पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशन पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, फीचर फिल्म श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ निर्देशन, सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म तथा सर्वश्रेष्ठ संपादन पुरस्कार प्रदान किए।

पुरस्कार वितरण समारोह राष्ट्रपति के आगमन से पहले ही आरंभ हो गया था और कई पुरस्कार सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी तथा राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर प्रदान कर चुके थे। सभी पुरस्कार राष्ट्रपति द्वारा नहीं दिए जाने के कारण कई कलाकार पुरस्कार वितरण समारोह में शामिल नहीं हुए।

इससे पहले 60 से अधिक विजेता कलाकारों ने कल यह जानकारी मिलने पर कि राष्ट्रपति समारोह में कुछ ही पुरस्कार विजेताओं को पुरस्कृत करेंगे, यह घोषणा कर दी थी कि इस स्थिति में वे समारोह में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने इस संबंध में फिल्म महोत्सव महानिदेशालय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय तथा राष्ट्रपति कार्यालय को पत्र लिखकर अपने इस विचार से अवगत करा दिया था।