लंदन। बेहद प्रभावी गेंदबाजी करने वाले जेम्स एंडरसन की तारीफों के पुल बांधते हुए इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने कहा कि यह तेज गेंदबाज विशेष है, जो आयु बढ़ने के साथ बेहतर होता जा रहा है। भारत के खिलाफ दूसरे टेस्ट में इंग्लैंड की पारी और 159 रनों की आसान जीत के दौरान 36 साल के एंडरसन लॉर्ड्स पर 100 विकेट के आंकड़े को पार करने में सफल रहे।
एंडरसन टेस्ट क्रिकेट के सबसे सफल तेज गेंदबाज के रूप में ऑस्ट्रेलिया के महान ग्लेन मॅक्ग्राथ को पीछे छोड़ने की दहलीज पर खड़े हैं। एंडरसन के नाम पर 553 विकेट दर्ज हैं, जो ऑस्ट्रेलिया के महान गेंदबाज से 10 कम हैं।
रूट ने कहा कि वह विशेष है, क्या ऐसा नहीं है? वह ऐसी चीज है, जो आपको बार-बार नहीं मिलती और जब वह हमारे साथ है तो हमें उसका लुत्फ उठाना होगा। उसके करियर को लेकर बातें चल रही हैं लेकिन फिलहाल वह अपनी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी कर रहा है।
इंग्लैंड के कप्तान ने कहा कि हालांकि हालात अनुकूल थे लेकिन इसके बावजूद आपको गेंद को सही क्षेत्र में करना होता है और बल्लेबाज से सही सवाल पूछने होते हैं। पूरे मैच के दौरान उसने ऐसा किया, उसने स्टुअर्ट (ब्रॉड) के साथ मिलकर अच्छा मंच तैयार किया और पूरी गेंदबाजी इकाई ने अच्छा प्रदर्शन किया।
उन्होंने कहा कि उसका रिकॉर्ड भी यही सुझाव देता है- यहां लॉर्ड्स में 100 विकेट। वह लगातार शानदार प्रदर्शन करना है और अगर वह विकेट नहीं भी हासिल कर रहा तो वह 2 रन प्रति ओवर की गति से रन देता है इसलिए वह आपको अच्छा नियंत्रण देता है। रूट ने अपने गेंदबाजों की जमकर तारीफ की जिन्होंने उन्हें 5 मैचों की श्रृंखला में 2-0 की बढ़त दिलाई।
जेम्स एंडरसन ने मैच में 43 रन देकर 4 विकेट चटकाए जबकि ब्रॉड ने दूसरी पारी में 44 रन देकर 4 विकेट हासिल किए। क्रिस वोक्स ने मैच में 43 रन देकर 4 विकेट चटकाए। रूट ने ऑलराउंडर वोक्स की भी तारीफ की जिन्होंने चोट के बाद वापसी करते हुए बेन स्टोक्स की जगह जिम्मेदारी संभाली और नाबाद 137 रनों की पारी खेलकर इंग्लैंड को पहली पारी 7 विकेट पर 396 रनों पर घोषित करने में मदद की।