मुंबई। मुंबई और नजदीक के क्षेत्रों में मूसलधार बारिश के कारण सड़कों, रेलवे की पटरियों पर पानी भर गया और

शहर में जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया। भारी बारिश के चलते स्कूलों में छुट्‍टी की घोषणा कर दी गई। सड़कों और ओवरब्रिज से लेकर कॉम्प्लेक्स परिसरों में पानी भर गया है। मुंबई की लाइफ लाइन लोकल ट्रेन की गति भी धीमी हो गई है।
दूसरी ओर गुजरात के उमरगांव में 15 दिन में करीब 49 इंच बारिश हो चुकी है।

इस मौसम में एक दिन में हुई यह सर्वाधिक बारिश है, जिसके कारण कई सड़कों और गलियों में पानी भर गया और यातायात जाम के हालात बन गए। लोगों को घुटनों तक भरे पानी से गुजरना पड़ा।
बारिश और कम दृश्यता के कारण वाहन सड़कों पर रेंगते रहे, सड़कों पर बने गड्ढों से समस्या और भी जटिल हो गई है। कई स्कूलों ने सोमवार को छुट्टी घोषित कर दी है और कई लोग दफ्तर नहीं गए हैं। उपनगरीय रेलगाड़ियां देरी से चल रही हैं।
पश्चिम रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि कुछ रेलवे पटरियां पानी में डूब गईं जिस पर रेल यातायात रोक दिया गया है। हालांकि, अन्य पटरियों पर सीमित गति से रेलगाड़ियां चलती रहीं। कुर्ला, सायन और दादर में बहुत अधिक जलभराव हुआ है।
अधिकारी ने बताया कि सेंट्रल रेलवे में रेलगाड़ियां चल रही हैं और कोई भी सेवा रद्द नहीं की गई है। बृहन्मुंबई बिजली आपूर्ति एवं परिवहन (बेस्ट) के प्रवक्ता ने बताया कि बसें देरी से चल रही हैं लेकिन कोई भी सेवा रद्द या निलंबित नहीं की गई है।
मौसम विभाग ने मुंबई में मंगलवार तक भारी बारिश जारी रहने का अनुमान जताया है। कोलाबा वेधशाला में बीते 24 घंटे में 170.6 मिमी बारिश दर्ज की गई।

एक दिन में 15 इंच : गुजरात के कई हिस्सों में रविवार को मूसलाधार बारिश हुई। सबसे ज्यादा उमरगांव में, जहां पिछले 13 घंटे में 13 इंच बारिश से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ। पिछले 15 दिनों में यहां 49 इंच बारिश हो चुकी है। इस साल मानसून आने के बाद से पूरे गुजरात में अबतक 32 इंच बारिश रिकॉर्ड की जा चुकी है।

मौसम विभाग, मुंबई के उपमहानिदेशक केएस होसालिकर ने बताया कि इस मौसम में 24 घंटे में हुई यह सर्वाधिक बारिश है। उन्होंने बताया कि इसी दौरान उपनगर सांताक्रूज में 122 मिमी बारिश हुई।