1-
बारिश की बूंदों से कम-कम भीगने का प्रयास करें। इस मौसम में कब बारिश हो जाए ये किसी को भी पता नहीं होता। ऐसे में जब भी घर से बाहर निकलें छाता,रेन कोट जैसी चीजों को अपने साथ ले जाना न भूलें।
2- बरसात में जब भी धूप निकलें, बिस्तर को धूप में सुखाएं, इससे नमी के कारण उसमें पैदा होनेवाले कीटाणु मर जाएंगे और बिस्तर में बदबू भी नहीं आएगी।
3- लाख कोशिशों के बावजूद भी अगर आप बारिश में भीग गए हैं तो घर आते ही तुरंत गीले कपड़े बदलें, और पूरे शरीर को अच्छे से पोंछ कर सूखे कपड़े पहनें फिर तुलसी,लौंग एवं काली मिर्च युक्त चाय पीएं, अन्यथा सर्दी, खांसी, जुकाम आदि होने की आशंका बनी रहती है।

4- अपने जूते, चप्पल या सैंडल भीग जाने पर घर पर आते ही खोलकर दीवार के सहारे खड़े कर दें ताकि पानी निकल जाए,फिर धूप निकलने पर इसे धूप में सुखा लें। इस मौसम में साधारण जूते,चप्पल या सैंडल ही पहनें।
5- इस मौसम में कपड़े मुश्किल से सूखते हैं इसलिए मौसम को देखते हुए ही कपड़े धोने चाहिए। कई दिनों तक कपड़े नहीं सूखने पर उसमें बदबू भी आने लगती है। ऐसे में हवादार स्थान ही कपड़े को सुखाना चाहिए ताकि बारिश होने पर भी कपड़े हवा से सूख जाए। इसके लिए कपड़े सुखाने का स्टैंड भी प्रयोग में ला सकते हैं। गीले कपड़ों को भी तह करके नहीं रखें उससे भी कपड़ों में बदबू आने लगती है।
6- तौलिया,चादर आदि डेली यूज की पतली चीजों को ही उपयोग में लाएं। ये चीजें रोज उपयोग में आती हैं और कई बार भीगती हैं। ऐसे में इन्हें सुखाने में आसानी होती है।
7- इसी तरह पहने जाने वाले कपड़ों में भी हल्के और जल्दी सूखने वाले कपड़ों का चयन करें। महिलाएं यदि साड़ी पहनती हैं तो आम दिनों की अपेक्षा वे इसे थोड़ा ऊपर बांधें ताकि ये बार-बार भीगने से बच जाए। लड़कियों के लिए इस मौसम में कुर्ता-पायजामा या सलवार-सूट जैसे कपड़े ही ज्यादा अच्छे रहेंगे।
8- जब भी घर में बाहर से आएं और यदि छाता भीगा हो तो छाते को इस प्रकार रखें कि उसका सारा पानी निकल जाए। अगर बरसाती का प्रयोग कर रहे हैं तो उसे रोज सुखाकर ही पहनें।
9- इस मौसम में घर का भी निरीक्षण जरूर करते रहें,कहीं से अगर पानी टपक रहा हो तो तुरंत उसे रोकने की व्यवस्था करें। घर के आसपास भी नजर बनाए रखें कि पानी कहीं रुका हुआ या जमा हुआ तो नहीं है। बीमारी का खतरा इससे भी बढ़ जाता है।

10- इस मौसम में कमरे के बाहर पैर पोंछने के लिए पायदान जरूर रखें। खिड़कियों और दरवाजों के पर्दें और कालीन का उपयोग न हीं करें तो ज्यादा अच्छा है।
11- रसोई में काम आने वाली दैनिक प्रयोग की वस्तुएं जैसे लोहे के बर्तन,कड़ाही चाकू,छुरी में जंग पकड़ सकते हैं। ऐसे में इनकी साफ-सफाई का भी ध्यान रखें। जंग लगे इन वस्तुओं के प्रयोग से भी सेहत को हानि होती है।
12- खाने में रोज उपयोग में आनेवाली चीजों जैसे अचार,मुरब्बे आदि को नमी से दूर रखें और उसके डिब्बों का मुंह ढंक कर बांध दें।
13- सबसे महत्वपूर्ण चीज, पीने के पानी की शुद्धता के साथ कोई समझौता न करें हमेशा शुद्ध पानी का ही प्रयोग करें या पानी को उबाल कर पीएं।
14- खाने में दही का उपयोग करने वाले लोगों ये सलाह है कि ताजी दही का ही सेवन करें या दही के स्थान पर नींबू का इस्तेमाल करें।