दिल्ली पुलिस के मुताबिक पूरा परिवार ने डायरी के मुताबिक ही आत्महत्या की है। बताया जाता है कि परिवार के छोटे बेटे में उसके पिता की आत्मा आती थी। उसी के कहने पर परिवार ने खुद को खत्म करने का कदम उठाया।

पुलिस को 5 जून 2013 से 18 जून 2018 के रजिस्टर मिले हैं। इस दौरान 11 रजिस्टरों में मौत की सिलसिलेवार इबादतें लिखी गईं। 30 जून के रजिस्टर में आखिरी मौत की इंट्री है।
बेटा करता था पिता से बातचीत : खबरों के मुताबिक ललित 2011 से अपने मृत पिता से सपने में बातचीत करता था, जिसे वो रजिस्टर में लिखता था। ललित अपने पूरे परिवार के साथ रोजाना दिन में तीन बार घर में ही एक विशेष पूजा करता था। यह पूजा सुबह 8 बजे, दोपहर 12 बजे और फिर रात 10 बजे होती थी। लंबे अरसे से घर में यह पूजा हो रही थी। पूरा परिवार ललित का अनुसरण करता था।
छोटे बेटे में आती थी आत्मा : बताया जाता है कि परिवार का छोटा बेटा ललित अंधविश्वास में था। बताया जाता है कि उसमें आत्मा आती थी और उसके कहे के मुताबिक ही परिवार काम करता था। ललित के कहे अनुसार ही उन्होंने यह आत्महत्या का कदम उठाया। उसने कहा कि आत्मा ने कहा कि वह प्रकट होकर उन सबको बचा लेगी।
रजिस्टर में है हर कार्यकलाप की इंट्री : दिल्ली पुलिस ने दावा किया है कि एक डायरी मिली है, जिसके अनुसार ही लोगों ने आत्महत्या की है। इस डायरी में कई बातें लिखी है, जिसके अनुसार परिवार ने यह खौफनाक कदम उठाया। छोटे बेटे ललित ने ही परिवार को कई काम के बारे में बताया था, जिसके मुताबिक उनके परिवार के काम भी हुए थे।