पटना। भाजपा प्रमुख अमित शाह ने गुरुवार को बिहार के सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच हो रही इस बैठक में सीटों का विवाद सुलझने की उम्मीद हैं।

अमित शाह आज पटना में पार्टी के नेताओं के साथ लोकसभा चुनाव की रणनीति बनाने के लिए मैराथन बैठक करने वाले हैं। लेकिन सबकी निगाहें उनकी नीतीश कुमार के साथ उनकी मुलाकात पर टिकी है।
नीतीश की नाराजगी भाजपा के उन केंद्रीय मंत्रियों और सासंदों से हैं जो उनकी पार्टी के मुताबिक उग्र हिंदुत्व की विचारधारा को बिहार में भी आजमाने की कोशिश कर रहे हैं। दंगा फैलाने के आरोपियों से गिरिराज सिंह की मुलाकात पर तो वो सार्वजनिक तौर पर नाराजगी जता चुके हैं।
दिल्ली में हुई जेडीयू कार्यकारिणी में नीतीश ने स्पष्ट कर दिया कि वो किसी भी कीमत पर सांप्रदायिक राजनीति से समझौता नहीं करेंगे, चाहे इसके लिए सरकार ही कुर्बान न क्यों करना पड़े।
नीतीश लोकसभा सीटों पर तालमेल को लेकर भी भाजपा से नाराज हैं। भाजपा चाहती है कि बिहार में भी नरेंद्र मोदी के चेहरे को आगे रख ज्यादा सीटों पर दावा ठोक रही है जबकि जदयू नेता नीतीश के नेतृत्व में चुनाव लड़ना चाहते हैं।